पुरसुकून सांस लेता है सांस छोड़ने वाला !!!

फरिस्ता है इश्क में खुद को मिटाने वाला 
अक्सर हँसता है आसुंओं में नहाने वाला !

मैं कब से मुड़ मुड़ के तनहा राहे देखता हूँ
लौट कर कब आता है छोड़कर जाने वाला !

पल भर में ही वो नजरों से गायब हो गया 
सितारा जिसे था मैं प्यार से चूमने वाला !

हमेशा जान हथेली पर लेकर चलती हैं वे
मैं कौन होता हूँ उन्हें कुछ बोलने वाला !

मौत कहाँ रोक पायी है जीने वालों को 
पुरसुकून सांस लेता है सांस छोड़ने वाला !