डगर !!!

कोई रास्ता ढूंढ लो जहाँ प्यार की कदर हो
इज्जत मिले, कुछ बात बने |
जिस पर तुम चल रहे हो, वहां प्यार बिकता है |
ऐसे रास्ते, ऐसी पगडंडियां, ऐसे नज़ारे
मोह हैं, भ्रम हैं, गुमराही का सबब है |