मै देखता आसमां और बरसात आती ।

                                                   
                                                काश अपनी भी ऐसी ही इक रात आती,
                                                   मै देखता आसमां और बरसात आती ।
                                                   ढूंढ़ता फिरता चाँद महबूबा को अपनी
                                                   चांदनी मुझसे मिलने मेरे पास आती ।
                                                   रात भर उसके पहलू में जागता मै रहता
                                                   और वो मेरी नींदों में हर-बार आती ।
                                                    उसके ओठों पर बस मेरा नाम रहता
                                                   मेरी बातों में उसकी ही हर बात आती ।
                                                   टूटे पत्तो की तरह जमीं को छूते हुए
                                                   काश मुझको छूने मेरी दिलदार आती ।