दिल ने कहा कुछ लिखूं !!!

                                                        
जब भी तुम्हे देखा दिल ने कहा कुछ लिखूं
तेरी खूबसूरती  लिखूं ,कि तेरी अदा  लिखूं ।
तेरी आँखों की उठती पलकों से निखरी सुबह
या तेरी झुकती पलकों में छुपी शाम  लिखूं ।
तेरी रेशम सी लहराती जुल्फों से बरसती घटा
या तेरी खामोश जुल्फों से उतरी छांव लिखूं ।
महफ़िलो में तेरे  हुस्न से बनायीं हुई गजल
और तन्हाई में कोरे पन्नो पर तेरा नाम लिखूं ।