एक उदास रात !!!

11 बजने को हो गये हैं | रात जवां हो गयी है | फलक पर सितारे नाच रहे हैं, चाँद मुस्कुरा रहा है | चांदनी लोगों के दिलों में मुहब्बत के तराने गा रही है | कहीं ख्वाब पिघल रहे हैं, आरजुएं सिमट रहीं हैं, सदायें दम तोड़ रही हैं, खामोशियाँ बातें कर रही हैं, कहीं जिस्म नजदीक आ रहे हैं, रूहें एक हो रही हैं, धरती मुहब्बत के इस अफ़साने में डूब गयी है और मैं......!
अकेला हूँ मैं, निपट अकेला | इतना कि खुद से बातें करते हुए भी डर लगता है मुझे | दरवाजे पर ही बैठा हूँ तुम्हारी आस में | ये गहराई हुई रात, ये चाँद सितारे, ये फैली चांदनी, ये हवाएं, फिजायें.........क्या करूं मैं इनका | तुम बिन सब बेकार है, बेहया, बेशर्म लगते हैं मुझे | मेरे न चाहने पर भी चले ही आते हैं | हाँ, मेरे चाहने से होता भी क्या है ? मैंने कभी नहीं चाहा की कोई मेरी जिन्दगी में आये लेकिन तुम आ गयी | मैंने कभी नहीं चाहा था मुहब्बत करना लेकिन हो गयी | मैंने कभी नहीं चाहा था की तुम जाओ लेकिन तुम चली गयी | मैं चाहता हूँ तुम वापस आ जाओ लेकिन......|
खैर, मैं सच में बहुत उदास हूँ यार | जैसे किसी गरीब बच्चे का सबसे महंगा खिलौना टूट गया हो | अब हिम्मत भी नहीं रही तुमसे गुस्सा होने की, तुमसे शिकायत करने की, या फिर से तुमसे तुम्हे वापस मांगने की | शायद मैं मोहब्बत के उस मुकाम पर पहुँच गया हूँ जहाँ गिले-शिकवे, वफाई, बेवफ़ाई जैसे लफ्ज मर ही जाते हैं बस खामोश सा दर्द ही रह जाता है जो हर पर मेरे जिन्दा होने का अहसास कराता रहता है |
जानता हूँ | सितारे नाच गाकर चले जायेंगे | चाँद थक हार कर सो जायेगा | सहर में बरसी शबनम में सब मदहोशी खोने लगेंगे | पंछी चहचहाने लगेंगे, जानवर नदी की ओर जाने लगेंगे, कलियाँ फूल बनने लगेंगी, इन्सान बिस्तर पर करवट लेने लगेगा और मैं.........| मैं तब भी ऐसे ही उदास बैठा रहूँगा, तुम्हारी आस में ..........!